5+ गुलाब का फूल पर कविता | Poem On Rose Flower In Hindi

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Poem On Rose Flower In Hindi :- गुलाब का फूल सब फूलों का राजा है। गुलाब कई रंग का होता है जैसे- लाल, पीला, बैंगनी, काला, मैरून, शेडेड गुलाब, गुलाबी आदि। सर्दियों के मौसम में गुलाब के फूल खिलते हैं। गुलाब की कलमों को लगाने से गुलाब के फूल उगते हैं। गुलाब के फूल पूजा और विवाह में ही काम नहीं आते बल्कि इस गुलाब से औषथि और अन्य उत्पाद भी बनाये जाते हैं।

गुलाब के फूलों से गुलाब जल बनाया जाता है। जो आँखों को साफ करता है। गुलाब जल, नींबू, ग्लिसरीन मिलाकर मास्वराइजर बना सकते हैं और सूखे हाथों में लगा सकते हैं। मेकअप के बाद उसे हटाने के लिए गुलाब जल में रुई डुबोकर साफ किया जा सकता है। गुलाब के फूलों का तेल, पाउडर, शैम्पू, फैसपैक, साबुन, अगरबत्ती, इत्र, गुलकंद, शर्बत बनता है।

गुलाब के फूलों का गुलकंद, ब्लड प्रेशर कम हो तो खायें । मानसिक रोगों में भी गुलकंद का सेवन फायदेमंद है। थोड़े से गुलाब के फूलों के साथ सौंफ, इलायची, मिश्री, केसर, मिलाकर शीशे की बोतल में धूप में रखें। जब मसाला पककर गलने लगे तब उसमें नारियल बुरादा, चाँदी वर्क से सजाकर पान में डालकर खायें। यह बहुत स्वादिष्ट लगता है। देखा बच्चो ! कितना गुणकारी है गुलाब।

गुलाब का फूल पर कविता

Poem On Rose Flower In Hindi

poem-on-rose-flower-in-hindi

कितना सुंदर लगता,

सबको खूब लुभाता,

आँगन को महकाता,

प्यारा लगता गुलाब।

कली पर नाज करता,

डालियों पर सुहाता,

बालों में खूब जँचता,

प्यारा लगता गुलाब।

जीवन छोटा इसका,

पर काम बड़े करता,

हर हाल खुश रहता,

प्यारा लगता गुलाब।

सर पर कॉटों का ताज,

पर फूलो का सरताज,

खुद पर करता है नाज,

प्यारा लगता गुलाब।

-नलिन खोईवाल

गुलाब का फूल पर कविता

Poem On Rose Flower In Hindi

गुलाब की महक, रंगों की बहार,

प्यार की प्रतीक, मोहब्बत का इज़हार।

लाल रंग की परी, सुगंधित खुशबू,

प्रेम की कहानी, बुनता फूल सबकू।

कांपते दिल को, बहलाता सपना,

गुलाब की यह बेहद मदहोशिया रचना।

कांतों के बीच, खिलता यह प्यार,

मोहब्बत की कहानी, लिखता इसका इज़हार।

प्रेम की राहों में, खिलता यह फूल,

गुलाब की यादें, रहतीं हमें भूल।

जीवन की मिठास, छिपी है इसमें,

गुलाब की खिलकर, होती है शुरुआत नई।

गुलाब का फूल पर कविता

Poem On Rose Flower In Hindi

गुलाब, तू खिलती जाती,

प्रेम की कहानी बन जाती।

लाल रंग से तू रंगी है,

हर दिल में बस जाती है।

कांपते दिल को तू बहलाती,

अपनी खुशबू से खिल जाती।

कांटों में भी खुदकुशी तू,

हकीकत बन जाती है सपना।

सजीव रंगों में खुद तू खिली,

गुलाब, तू ही जीवन की खुशबू।

गुलाब का फूल पर कविता

Poem On Rose Flower In Hindi

गुलाब की खिली खूशबू,

रंगीन प्यारी बहार।

प्रेम की कहानी सुनाती,

हर दिल में बसा जाती यादें तुम्हारी।

लाल, सुंदर और मनमोहक,

तुम्हारी खूबसूरती ने सबको रंगीन किया।

कांपते दिलों को बहलाती,

तुम्हारी मिठास ने हम सबको खुश किया।

कांटों के बीच भी तुम बिखरती,

एक नयी राह प्रदर्शित करती।

जैसे जीवन में हो उम्मीद की किरन,

तुम भी दिखलाती हो मनुष्यों को सपना अपना।

गुलाब, तुम हो प्रेम और उम्मीद की प्रतीक,

तुम्हारी खिली खूशबू से हर दिल को भाती भीक।

जैसे तुम्हारी पतली कलियाँ हो हमारे जीवन की कहानी,

बनते हैं ये चुपचाप बिताए लम्हें यादगारी।

गुलाब और काँटें

Poem On Rose Flower In Hindi

रहता काँटों संग मैं, मेरा नाम गुलाब।

जिसके हाथों में गया, लगे देखने ख्वाब,

लगे देखने ख़्वाब, प्रेम जोड़े हैं भाते,

करते जब इजहार, सदा मुझको वे लाते।

खुशियाँ उनकी देख, नहीं कुछ मैं भी कहता।

काँटों का ये दर्द, सहन कर मैं हूँ रहता।

देते हरदम साथ हैं, मेरे सच्चे यार,

रक्षा करते है सदा, और निभाते प्यार।

और निभाते प्यार, कभी वे चुभ से जाते।

बैठे बनकर ठाठ, हाथ कोई न लगाते।

काँटों की है बात, इसे कोई नही लेते।

रखते हैं सम्भाल, साथ वो हरदम देते।

-प्रिया देवांगन

गुलाब

Poem On Rose Flower In Hindi

गुलाब का फूल, अति सुंदर और सुर्गंधित,

करते है हम, परमेश्वर के चरणो में अर्पित।

चलो महका दे जहां, गुलाब के फूल के जैसे,

सुंदरता और कोमलता मैं प्रसिद्ध हो ऐसे।

कभी बने शरबत, औषधि और कभी गुलकंद,

स्वयं की रक्षा करने को, हममें कांटे भी हो चंद।

सजावट हो या भोजन, इसके उपयोग है कहीं,

देखो इसकी आकृति, कुछ हमसे है कह रही।

इसे देखते ही, हमारे चेहरे पर आए मुस्कान,

इससे बढ़कर क्या हो, किसी का सम्मान।

हमें देख कर भी, कई चेहरे मुस्कुराए,

चलो सभी को, नम्र हृदय से अपनाएँ।

छोटा सा पौधा, हम सब अपने घर में लगाए,

क्योंकि हर बगीचे की, रौनक ये कहलाए।

कितना लाभदायक और उपयोगी है यह,

हमें जीने का, सलीका सिखलाए।

-डॉ. माध्वी बोरसे

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

close

You cannot copy content of this page