Top 15+ Poem On Nature In Hindi | प्रकृति पर सुंदर कविता

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Poem On Nature In Hindi :- “प्रकृति” हमारे चारों ओर सुरूप के रूप में हमारे साथ होती है। इसमें समुद्र, नदियों, पहाड़ों, वनों, फलफूल, पशु और पक्षियों की समुद्रता शामिल है। प्रकृति हमें समुद्री पर्वतारोहण, बर्फ पर स्नोकिंग, वन पर हिक्का करने के लिए सुख प्रदान करती है और हमें स्वस्थ रहने के लिए प्राकृतिक स्वास्थ्य की समुद्रता प्रदान करती है।

 

Poem On Nature In Hindi

 

हे मानव

Poem On Nature In Hindi

 

हे मानव! तुम पेड़ लगाओ,

तेज धप से हमें बचाओ.

दर-दर भटके हम बेचारे,

अपनी किस्मत से हैं हारे.

 

तुम तो ए.सी. में सो जाते,

ताजा-ताजा भोजन खाते.

मानव तुम महलों में रहते,

जरा धूप को तुम ना सहते.

 

गली-गली हम ढूँढे छाया,

भरी धूप में जलती काया,

गाड़ी के नीचे जब जाते,

कभी मार कर हमें भगाते.

 

दिनभर रहते भूखे प्यासे,

धीमी होती जाती साँसे.

हे मानव! तुम हमें बचाओ,

धरती में हरियाली लाओ.

प्रिया देवांगन

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता के साथ हम परे,

सुन्दर पहाड़ों और नदियों के साथ।

हम उनके साथ खेलते हैं और उनसे सुख पाते हैं,

हम उनकी सुन्दरता से प्यार करते हैं।

 

प्रकृति के साथ हम खुश होते हैं,

सुख और शांति के साथ हम समय बिताते हैं।

प्रकृति की सुन्दरता का सम्मान करते हैं,

और हम उससे सदैव प्यार करते रहेंगे।

 

प्रकृति की हर रंग में खुशहाली होती है,

सुन्दर फूलों से सजी हुई समस्त दुनिया होती है।

धूप के साथ पत्तियों की हर छाई होती है,

समुद्र की सुन्दरता सबको बिछा देती है।

 

पर्वत की उड़ान से मन को शांति मिलती है,

झरनों की धूप से सब कुछ समाप्त हो जाता है।

प्रकृति की सुन्दरता सदैव हमें समृद्धि देती है,

हम सदैव उसके साथ होंगे और उससे प्यार करेंगे।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

प्रकृति की सुन्दरता सबको मुस्कुराती है,

समय के साथ साथ सब कुछ बदलता ही रहता है।

किसी की बिना सब कुछ कुछ नहीं होता,

प्रकृति के साथ हम सब कुछ पा सकते हैं।

 

पत्तियों की सुन्दरता को देखकर हम समय बिताते हैं,

समुद्र की सुन्दरता को समझकर हम खुश रहते हैं।

प्रकृति की सुन्दरता सबको सम्मान करना चाहिए,

क्योंकि वह हम सभी को संतुष्ट करती है।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता सबको हर समय सम्मान करती है,

किसी की नहीं बिना वह हम सभी को संतुष्ट करती है।

प्रकृति की हर रंग से हम प्यार करते हैं,

समुद्र, पहाड़े, फूल, सब कुछ हमें समृद्धि देते हैं।

 

समुद्र की सुन्दरता से हम हमेशा प्यार करते हैं,

पहाड़ों की उड़ान से हम शांति पाते हैं।

प्रकृति की सुन्दरता से हम सदैव प्यार करेंगे,

और उसके साथ हम सदैव खुश रहेंगे।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता को दिल से समझते हैं,

सब कुछ किसी की नहीं, सबके कुछ है ये।

सबको कुछ देती है, सबको कुछ छोड़ती है,

सबको हमेशा संतुष्ट करती है, प्रकृति की हमेशा सुन्दरता।

 

समुद्र की सुन्दरता से हम प्यार करते हैं,

पहाड़ों की शान से हम शांति पाते हैं।

फूलों की खुशहाली से हम खुश होते हैं,

प्रकृति की सुन्दरता से हम सदैव प्यार करेंगे।

 

प्रकृति की सुन्दरता को बचाते हों,

सुरक्षित रखते हों, समृद्धि के साथ रखते हों।

प्रकृति की सुन्दरता के साथ हम सदैव खुश रहेंगे,

और उससे प्यार करेंगे, हमेशा से हमेशा के लिए।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता सबको प्रसन्न करती है,

सुन्दर ताजगी से समय को बदल देती है।

प्रकृति की सुन्दरता से हम सब कुछ सीखते हैं,

स्वच्छता, सहयोग और संवेदनशीलता के बारे में।

 

पहाड़ों की उड़ान से हम शांति पाते हैं,

झरनों की सुन्दरता से हम प्रकृति को समझते हैं।

प्रकृति की सुन्दरता से हम सदैव प्यार करेंगे,

और उसके साथ हम सदैव खुश रहेंगे।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता हम सबको बेहतर करती है,

हमेशा से हमेशा के लिए हमें संतुष्ट रखती है।

समुद्र की सुन्दरता से हम प्यार करते हैं,

पहाड़ों की शान से हम शांति पाते हैं।

 

प्रकृति की सुन्दरता हमें समृद्धि देती है,

स्वच्छता, सहयोग और संवेदनशीलता के बारे में।

प्रकृति की सुन्दरता को समृद्धि से रखते हों,

और हम सदैव प्रकृति के साथ खुश रहेंगे।

 

प्रकृति का सौन्दर्य

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति का सौन्दर्य हमें दिखाती है,

समृद्ध पर्वतों की शानदार रहस्यमयी दृश्य।

सुन्दर नदियों के किनारे खड़े होते हैं,

जंगलों के गहरे शहर से छुपी हुई सुन्दर स्थल।

 

प्रकृति की हर सुन्दरता सबको बिना किसी कष्ट के दिखाती है,

सबको अपने सुख और समृद्धि के लिए संतुष्ट करती है।

प्रकृति का समृद्धि हमें सबके लिए होता है,

और हमें सबके लिए होती है समृद्धि।

 

प्रकृति का शक्ति और सौन्दर्य किसी को भी संतुष्ट कर सकती है,

और हमें सबको संतुष्ट करती है प्रकृति की सुन्दरता।

प्रकृति का सौन्दर्य

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति का सौन्दर्य हमें समृद्ध करता है,

सुन्दर फूलों की खुशबू से घमंड करता है।

प्रकृति के किसी कोने से सुख की आवाज सुनते हैं,

सुनहरे पहाड़ों की ताजगी से खुश होते हैं।

 

प्रकृति का शक्ति हमें स्वस्थ रखता है,

समुद्रों की हवा से ताजगी पाते हैं।

प्रकृति की सुन्दरता से हम प्रेरित होते हैं,

और समृद्धि की कृपा से समृद्ध होते हैं।

 

प्रकृति हमें समृद्ध करती है,

और हमें समृद्ध करती रहेगी।

हम इससे प्यार करेंगे, और

इससे सदैव संवेदनशील रहेंगे।

प्रकृति की सुन्दरता

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता हमें हर रोज समृद्ध करती है,

सुन्दर समुद्र की तरफ से समृद्धि की कृपा मिलती है।

प्रकृति के पर्वतों की शानदार दृश्य हमें दिखाते हैं,

और समृद्ध जंगलों की ताजगी से हम खुश होते हैं।

 

प्रकृति की शक्ति हमें समृद्ध करती है,

समुद्रों की हवा से हम स्वस्थ रहते हैं।

प्रकृति की कृपा से हम समृद्ध होते हैं,

और हम सदैव इससे प्यार करेंगे।

 

प्रकृति की सुन्दरता हमें समृद्ध करती है,

और हमें समृद्ध करती रहेगी।

हम इससे सदैव संवेदनशील रहेंगे,

और इसकी सुन्दरता को सदैव समृद्ध कर.

 

प्रकृति की सुन्दरता

Poem On Nature In Hindi

 

प्राकृति की सुन्दरता को देखकर,

मन में सुख का संतुष्टि होती है।

सब कुछ निरंतर बदलते रहते हैं,

पर प्राकृति की सुन्दरता को कुछ नहीं बदल सकता।

 

सुन्दर पहाड़ी, सुन्दर झीलें,

सुन्दर पेड़-पौधे, सुन्दर फूलें।

सब कुछ प्राकृति की सौगात है,

हम सबको सुख देती है प्राकृति की सौगात।

प्रकृति की कला

Poem On Nature In Hindi

 

सब कुछ प्राकृति की कला है,

सब कुछ प्राकृति के हाथ से बना है।

सुन्दर समुद्र, सुन्दर हिमालय,

सुन्दर पहाड़ी, सुन्दर झीलें।

 

प्राकृति के साथ हम खुश रहेंगे,

प्राकृति के साथ हम सुख करेंगे।

प्राकृति की सुन्दरता हमें समृद्ध करेगी,

हमें प्राकृति की शान से भरोसा होगा।

प्रकृति की सौगात से

Poem On Nature In Hindi

 

प्राकृति की सौगात से समृद्ध,

सब कुछ प्राकृति के हाथ से बना।

सुन्दर समुद्र, सुन्दर हिमालय,

सुन्दर पहाड़ी, सुन्दर झीलें।

 

सुन्दर फूलों का समुद्रता,

पेड़-पौधों की शानदार सुंदरता।

प्राकृति का शक्ति हमें बरसाती है,

समृद्धि की कुशलता हमें देती है।

 

प्रकृति की सुन्दरता को

Poem On Nature In Hindi

 

प्रकृति की सुन्दरता को दिखाती है,

सुन्दर पहाड़ों और खुशबूदार नदियों को,

खुशबूदार फल और सफेद पत्तियों को,

सुन्दर कुछ स्वर्ग को दिखाते हुए सम्पूर्ण है।

 

प्रकृति के साथ हम हमेशा सुखी रहेंगे,

और हमेशा से यह हमें सुख देगी,

स्वच्छता और सुख की स्थापना करेगी,

हमेशा हमें सुख की स्थापना करेगी।

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

नदी के किनारे बैठकर,

स्वच्छ हवा में सुनकर,

प्रकृति का शानदार सजा,

हमें सुख और आनंद दिलाती है।

 

फूलों की खुशबू से भरी,

पेड़ों की छाया से सजी,

सुन्दर पहाड़ों की शिखर पर,

प्रकृति की रोशनी से धूप मिलती है।

 

सुख से भरी समुद्र तट पर,

सुन्दर समुद्री जीव को दिखाते हुए,

प्रकृति की शानदार सजा को दिखाती,

हमें सुख और आनंद दिलाती है।

 

प्रकृति

Poem On Nature In Hindi

 

समुद्र की सुन्दर समुद्रता,

पहाड़ों की शिखरों की ऊँचाई,

प्रकृति की सुन्दर सजा को दिखाती,

हमें सुख और आनंद दिलाती है।

 

खुशबूदार फूलों की खुशबू,

पेड़ों की छाया से सजी हमें,

प्रकृति की सुखद समय को दिखाती,

हमें सुख और आनंद दिलाती है।

 

पर्यावरण के सम्मान को रखते,

प्रकृति को संरक्षण करते हुए,

हम सदैव प्रकृति को समृद्ध रखेंगे,

हमें सुख और आनंद दिलाती है।

सुन्दर प्रकृति की कल्पना

Poem On Nature In Hindi

 

सुन्दर प्रकृति की कल्पना,

स्वच्छ हवा के साथ सम्मलेन,

पेड़ों की छाया से सजी हमें,

सुख की स्थापना देती है।

 

पहाड़ों की शिखर पर स्थित,

सुन्दर पहाड़ों से सुख की स्थापना,

सुन्दर फलों और पेड़ों के साथ,

सुख की स्थापना देती है।

 

सुन्दर समुद्र की समुद्रता,

सुन्दर जीव को दिखाते हुए,

सुख की स्थापना देती है प्रकृति,

हमें सुख की स्थापना देती है।

प्रकृति के समीप जाना तुम
रचनाकार- संगीता पाठक

सुबह सवरे प्रकृति के समीप जाना तुम,
देखना पेड़ों पर बैठे पंछी
कितना मधुर संगीत सुनाते हैं.
सुबह का सूरज किसी लुढ़कती गेंद सा,
आसमान में सिंदूरी प्रकाश बिखेरता है.
सबके जीवन में भी आशा की किरणें संचरित करता है.
सुबह सवेरे तुम किसी झरने के समीप जाना,
देखना कल कल बहता हुआ झरना, जीवन
में हमेशा आगे ही आगे बढ़ने का संकेत देता है.
सुबह सवेरे तुम किसी धान के खेत के समीप जाना,
देखना धान की सुनहरी बालियाँ,
हवा के संग झूम झूमकर कैसे इठलाती हैं.
सांध्य बेला में तुम किसी ग्राम की ओर जाना,
देखना अपने घरों की ओर लौट ती गायों के
गले में बँंधी घंटियों के जादुई स्वर में,
मीठा संगीत छिपा होता है.
सांध्यबेला में ही तुम किसी सागर तट पर जाना,
देखना सागर की लहरों में भी
संगीत छिपा होता है.
वे इठलाती हुई तट तक आती हैं.
गर्जना करती हुई टकराती हैं और
पीछे की ओर लौट जाती हैं.
सुबह स्वेरे तुम प्रकृति के समीप जाना देखन,
प्रकृति का अद्रत चितेरा हाथों में ब्रश लेकर
नित नये नये रंग भर देता है.

 

conclusion : – 

प्रकृति में कई प्रकार की प्रजातियाँ एक पारिस्थितिकी तंत्र में कार्य करती हैं. प्रत्येक जीव अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति करने के साथ-साथ पर्यावरण के अन्य जीवों के लिए भी कुछ उपयोगी योगदान देता है. विश्वप्रकृति संरक्षण दिवस हर साल 28 जुलाई को मनाया जाता है ताकि यह पहचाना जा सके कि एक स्वस्थ पर्यावरण, एक स्थिर और उत्पादक समाज और आने वाली पीढ़ियों के लिए नींव है. प्रजातियाँ ऊर्जा का भंडारण और उपयोग करती हैं, कारब्बनिक पदार्थों का उत्पादन और विघटन करती हैं, पूरे पारिस्थितिकी तंत्र में पानी और पोषक तत्व्वों के चक्र का हिस्सा हैं, वातावरण में गैसों को ठीक करती हैं और जलवायु को विनियमित करने में भी मदद करती हैं. इस प्रकार, वे मिट्टी के निर्माण, प्रदृषण को कम करने, भूमि, जल और वायु संसाधनों की सुरक्षा में मदद करती हैं. जैव विविधता के ये कार्य पारिस्थितिक तंत्र के कार्यों और स्थिरता के लिए अत्यंत महत्वपर्ण हैं. विभिन्न पौधे, जानवर और सुक्ष्मजीव जो जैव विविधता का निर्माण करते हैं, हमें अनाज, मछली आदि जैसे खाद्य पदार्थ प्रदान करते हैं, हमारे कपड़ों के लिए फाइबर जैसे कपास, ऊन आदि, जीवित रहने के लिए ईधन लकड़ी के साथ-साथ नीम जैसे दवा उत्पाद भी प्रदान करते हैं. जैव विविधता स्थानीय और साथ ही वैश्विक जलवाय् को नियंत्रित करती है, आक्सीजन, कार्बन डाइओक्साइड और अन्य गैसों के वैश्चिक स्तर का प्रबंधन करती है, मीठे पानी की गुणवत्ता बनाए रखती है, काब्बन सिंक आदि के रूप में कार्य करके कार्बन को अवशोषित करती है. इस प्रकार जैव विविधता जीवन को नियंत्रित करती है. जैव विविधता परागण, पोषक तत्वों के चक्रण के साथ-साथ पुनर्चक्रण, ग्रीनहाउस गैस को कम करने में मदद करती है. जैव विविधता हमें सौदर्य सुख प्रदान करती है. समृद्ध जैविक विविधता पर्यटन को प्रोत्साहित करती है. कई समुदा्यों और संस्कृतियों ने जैविक रूप से विविध वातावरण द्वारा प्रदान किए गए परिवेश और संसाधनों के साथ सह-विकसित किया है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

close

You cannot copy content of this page