13+ बसंत पंचमी पर अनमोल कविता | Poem On Basant Panchami In Hindi

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Poem On Basant Panchami In Hindi :- बसंत पंचमी हिंदू धर्म के अनुसार एक प्रसिद्ध त्यौहार है। यह समय बसंत ऋतु की शुरुआत को मनाया जाता है। यह त्यौहार पूजन, धूप, फूलों, सफ़ेद कपड़ों, स्वर्ग की सुंदरता को समर्पित होता है। यह त्यौहार पूजा, कृष्ण से संबोधन, संस्कार, कविताएँ और संस्कृतिक कार्यक्रमों से समाविष्ट होता है। यह त्यौहार बहुत से भारतीय राज्यों में मनाया जाता है, सबसे प्रसिद्ध हिंदू धर्म के रूप में पंचमी को बसंत पंचमी के रूप में मनाया जाता है।

यह त्यौहार स्वर्ग की सुंदरता, सुख, समृद्धि, शांति, स्वस्थ रहने के लिए प्रार्थना के साथ मनाया जाता है। इस त्यौहार को धूप, फूलों, सफ़ेद कपड़ों, धन, स्वस्थ रहने के संकेत के रूप में समर्पित किया जाता है। यह त्यौहार बहुत से भारतीय राज्यों में मनाया जाता है और यह समाज को समृद्धि, सुख, शांति और स्वस्थ रहने की शुभकामनाएं के साथ मनाया जाता है। यह त्यौहार स्वर्ग की सुंदरता, सुख, समृद्धि, शांति, स्वस्थ रहने के लिए प्रार्थना के साथ मनाया जाता है।

इस दिन धर्मशालाओं में पूजा-अर्चना की जाती है, समृद्धि, सुख, शांति की कामनाएं की जाती है और कविताएं समर्पित की जाती है। समाज में सबको समृद्धि, सुख, शांति और स्वस्थ रहने की शुभकामनाएं दी जाती है। बसंत पंचमी को समृद्धि, सुख, शांति और स्वस्थ रहने की कामना के रूप में समर्पित किया जाता है। यह त्यौहार बहुत से भारतीय राज्यों में मनाया जाता है और समाज में सबको समृद्धि, सुख, शांति और स्वस्थ रहने की शुभकामनाएं दी जाती है। इस दिन कृष्ण की पूजा, संस्कृतिक कार्यक्रमों को आयोजित किया जाता है और कविताएं, संस्कृतिक नाटकों को समर्पित किया जाता है।

 

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

वसंत की शुभकामनायें,

सुख और समृद्धि की बहारें

बसंत पंचमी के अवसर पर सभी को

खुशहाल करें फूलों की खुशबू,

सदा भरोसेमंद हो

 

बसंत का समय सबको सुख दे, सुखी रहे

सुन्दर कल्पनाएं, समय की सुंदरता सुख की सुंदर बहारें,

सबको दें समृद्धि की शुभकामनायें,

समय के साथ बदले बसंत के

समय सबको सुख दे, समृद्धि करे.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

सफ़ेद कपड़ों में सजे हम,

बसंत की हार्दिक शुभकामनायें

हर कोई ख़ुश हो,

सुख समृद्धि की बहारें फूलों की

खुशबू से भरे हमारे दिल,

सफ़ेद कपड़ों में सजे हम,

बसंत की हार्दिक शुभकामनायें

 

सुख की बहारें, समृद्धि की शुभकामनायें

हम सब को दें, बसंत के समय

सुख समृद्धि सफ़ेद कपड़ों में

सजे हम, बसंत की हार्दिक शुभकामनायें

हम सब को सुख दें,

समृद्धि करें बसंत के समय.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

बसंत का समय आया,

फूलों की खुशबू से भरा

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

स्वर्ग की सुंदरता साथ है

 

बसंत पंचमी के अवसर पर,

सभी को सुख समृद्धि की शुभकामनायें

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

बसंत के समय सबको सुख दें.

 

सुन्दर कल्पनाएं हमारी,

समय की सुंदरता साथ है सुख की सुंदर बहारें,

सबको दें समृद्धि की शुभकामनायें

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

 

बसंत की हार्दिक शुभकामनायें

समय के साथ बदले,

सबको सुख दें बसंत के समय.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

सफ़ेद कपड़ों से सजे,

बसंत का समय आया

हर कोई ख़ुश हो,

सुख समृद्धि की बहारें

 

फूलों से भरे हमारे दिल,

बसंत की शुभकामनायें

सफ़ेद कपड़ों से सजे, समय के साथ बदले.

सफ़ेद कपड़ों में सजे हम,

 

स्वर्ग की सुंदरता साथ है

बसंत की हार्दिक शुभकामनायें,

सभी को सुख समृद्धि दें

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

 

समय के साथ बदले सबको सुख दें,

समृद्धि करें बसंत के समय.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

बसंत का समय आया,

सुख की बहार साथ है हर कोई खुश हो,

समृद्धि की शुभकामनायें

फूलों से भरे हमारे दिल,

 

सफ़ेद कपड़ों से सजे

हम बसंत का समय सबको सुख दे,

समृद्धि करे हम.

सुन्दर कल्पनाएं हमारी,

 

समय की सुंदरता साथ है

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

सुख की सुंदर बहार दें

बसंत पंचमी के अवसर पर,

 

सभी को सुख समृद्धि की शुभकामनायें

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

बसंत के समय सबको सुख दें.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

सुनहरी धूप से परिपूर्ण,

बसंत का समय आया फूलों का खुशबू सुखदायक,

समृद्धि की बहार साथ है सुनहरी कपड़ों से सजे,

हम सब स्वर्ग की सुंदरता साथ है

बसंत पंचमी के अवसर पर,

 

सभी को सुख समृद्धि की शुभकामनायें.

सुन्दर कल्पनाएं हमारी, समय की सुंदरता साथ है

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

सुख की सुंदर बहार दें समय के साथ बदले,

 

सबको सुख दें बसंत के समय सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

बसंत के समय सबको सुख दें.

 

बसंत पंचमी

Poem On Basant Panchami In Hindi

 

बसंत का समय आया,

सुख की बहार साथ है

हर कोई खुश हो,

 

समृद्धि की शुभकामनायें पंछी को समर्पित हम,

सुनहरी कपड़ों से सजे बसंत का समय

सबको सुख दे, समृद्धि करे हम.

सुन्दर कल्पनाएं हमारी,

 

समय की सुंदरता साथ है

फूलों से भरे हमारे दिल,

सुख की सुंदर बहार दें

 

बसंत पंचमी के अवसर पर,

सभी को सुख समृद्धि की शुभकामनायें

सफ़ेद कपड़ों से सजे हम,

बसंत के समय सबको सुख दें.

 

Basant Panchami is a Hindu festival that marks the beginning of spring season. The festival is celebrated with great enthusiasm and devotion. It is celebrated on the fifth day of the Hindu month of Magh.

  • Significance: The festival is dedicated to goddess Saraswathi, the goddess of education, knowledge, arts and culture. It is believed that the festival is a good time to start new educational pursuits and to seek the blessings of the goddess for success in education.
  • Celebration: People visit temples dedicated to goddess Saraswathi and perform puja and offer prayers. Schools and colleges also conduct special puja and cultural programs. Yellow color is associated with the festival, people wear yellow clothes and offer yellow flowers to the goddess.
  • Food and delicacies: Special delicacies such as Kheer, a sweet pudding made of milk, rice and sugar, are prepared and offered to the goddess. People also eat yellow colored food items, such as saffron-flavored sweet dishes, to mark the festival.
  • Cultural Significance: The festival is not only celebrated by Hindus but also by the people of other communities. It is a celebration of the coming of spring, and a time to enjoy the beauty of nature and to appreciate the colors and fragrances of the season.
  • Regional variations: The festival is celebrated with different names and customs in different regions of India, but the core of the festival remains the same, which is the worship of goddess Saraswathi and the celebration of the arrival of spring.
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

close

You cannot copy content of this page